Connect with us

उत्तराखंड

(उत्तराखंड) दुनिया से जाते-जाते अपने भाई सहित 7 लोगों की जान बचा गया 8 वर्ष का मासूम चंदन, ऐसे हुआ था दर्दनाक हादसा

चंपावत जिले में पाटी स्थित मौनकांडा के सरकारी स्कूल प्राथमिक विद्यालय में बुधवार को हुए हादसे में शौचालय की छत गिरने से तीसरी कक्षा के 8 वर्षीय छात्र चंदन की दर्दनाक मौत हो गई। लेकिन मासूम चंदन ने जाते जाते अपने 7 साथियों की जान भी बचाई, जिसमें एक उसका बड़ा भाई भी शामिल बताया जा रहा है।

हादसे में घायल 7 बच्चों में से 3 को पास के अस्पताल से ही छुट्टी दे गई थी, लेकिन 4 बच्चे अब भी जिला अस्पताल में अंडर ऑर्ब्जवेशन में रखे गए हैं। इस हादसे के बाद सीएम पुष्कर सिंह धामी ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद देने के साथ ही मजिस्टीयल जांच के आदेश दिए हैं, जबकि शिक्षा विभाग अब ऐसे स्कूलों को चयनित कर पुराने जर्जर कमरों को ध्वस्तीकरण करने में जुटा है।

चंपावत जिले में पाटी स्थित मौनकांडा के सरकारी स्कूल प्राथमिक विद्यालय में मध्यान्ह के समय स्कूली बच्चे खेल रहे थे। स्कूल में दो शौचालय हैं, एक इस्तेमाल का और दूसरा निष्प्रयोग का है। इस बीच 8 बच्चे खेलते-खेलते पुराने जर्जर शौचालय के पास आकर खेलने लगे। इस बीच किसी बच्चे के हाथ से दीवार पर हाथ लगी तो दीवार गिर गई। जिससे वहां पर खेल रहे मासूम बच्चे हादसे का शिकार हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी। यहां देर रात झुग्गी झोपड़ियां में लगी भीषण आग, देखें रिपोर्ट

चंदन नीचे गिरा, जिस पर पूरा लोड आ गया

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि चंदन का सिर फर्श से टकराया और वह नीचे गिरा, जिस पर पूरा लोड आ गया। इस वजह से जहां चंदन की दर्दनाक मौत हुई, तो बाकि बच्चे घायल हो गए। इस वजह से चंदन की ने जाते जाते 7 अन्य बच्चों की जिदंगी बचा ली। इन बच्चों में उसका एक बड़ा भाई भी शामिल था। जिस समय ये घटना हुई उस समय स्कूल में 14 बच्चे और 2 शिक्षक मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉  लोकसभा चुनाव अपडेट। नैनीताल जनपद में शाम 5 बजे तक हुआ इतना मतदान, लालकुआं में इतना रहा मत प्रतिशत:-

ये स्कूल मुख्यालय से 45 किमी और मौनकांडा से 10 किमी दूरी पर है। चंपावत के मुख्य शिक्षा अधिकारी जितेन्द्र सक्सेना ने बताया कि हादसे में घायल 3 बच्चों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। जबकि 4 बच्चों को जिला अस्पताल लाया गया है। सभी बच्चे खतरे से खाली है। लेकिन उन्हें कुछ समय अंडर ऑर्ब्जवेशन में रखा गया है।

सरकारी स्कूल में हुए इस हादसे के बाद अब शिक्षा विभाग अलर्ट हो गया है। मुख्य शिक्षा अधिकारी जितेन्द्र सक्सेना ने बताया कि इस तरह के स्कूल परिसर में भवन, कमरों को चिह्नित किया गया है। जिन्हें ध्वस्तीकरण के लिए विभाग कार्रवाई में जुटा है। माध्यमिक के ऐसे 25 स्कूलों को चिह्नित किया गया है। जहां पर कमरे या कोई भवन जर्जर है। उन्हें ध्वस्त किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  लोकसभा चुनाव अपडेट। देखें:- नैनीताल जनपद में कितना हुआ मतदान और किस विधानसभा में कितने प्रतिशत पड़े वोट, फाइनल रिपोर्ट

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राजकीय प्राथमिक विद्यालय मौनकाण्डा के शौचालय की छत गिरने की घटना के मजिस्ट्रियल जांच के निर्देश दिए। जिस पर जिलाधिकारी चम्पावत ने एसडीएम पाटी को जांच अधिकारी नियुक्त किया है। जिलाधिकारी ने अपने आदेश में एसडीएम को निर्देश दिये हैं कि इस दुर्घटना के कारणों की तत्काल जांच पूर्ण कर 15 दिन में जांच आख्या उपलब्ध कराये। जिलाधिकारी चम्पावत ने बताया है कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर मृतक छात्र के परिजनों को दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता मुख्यमंत्री राहत कोष से दी जाएगी और घायल छात्रों के निशुल्क उपचार की व्यवस्था की गई है।

स्रोत:- इंटरनेट मीडिया

Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखंड

Trending News

Follow Facebook Page

About

अगर नहीं सुन रहा है कोई आपकी बात, तो हम बनेंगे आपकी आवाज, UK LIVE 24 के साथ, अपने क्षेत्र की जनहित से जुड़ी प्रमुख मुद्दों की खबरें प्रकाशित करने के लिए संपर्क करें।

Author (संपादक)

Editor – Shailendra Kumar Singh
Address: Lalkuan, Nainital, Uttarakhand
Email – [email protected]
Mob – +91 96274 58823