Connect with us

उत्तराखंड

(उत्तराखंड) अंतरजातीय विवाह मामले में अनुसूचित समाज के जगदीश चंद्र की हत्या के मामले में एक आरोपित की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत….

अल्मोड़ा:- जगदीश हत्याकांड में पुलिस ने एक और आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक अन्य आरोपित की हत्याकांड के अगले दिन ही संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी। SSP प्रदीप कुमार राय ने बताया कि नदी से रेत निकालकर घोड़ों से ढुलान करने वाले दोनों आरोपितों ने जगदीश की रेकी करने और गीता को खोजने में हत्यारोपितों का साथ दिया था।

दोनों आरोपियों ने की थी रेकी
एसएसपी ने पत्रकार वार्ता कर कहा कि पनुवाद्योखन निवासी जगदीश चंद्र हत्याकांड में घटना के दिन गीता के स्वजनों ने घोड़ों से ढुलान का कार्य करने वाले नंदन सिंह पुत्र कुंवर सिंह और नरेंद्र सिंह पुत्र हीरा सिंह निवासी नौगांव तहसील रानीखेत के साथ मिलकर जगदीश चंद्र की हत्या का षड्यंत्र रचा था। गीता के सौतेले भाई गोविंद सिंह के मित्र नंदन ने जगदीश के ग्राम बोली चापड़ में आने और गांव से निकलने की रेकी कर सूचना हत्यारोपितों को दी थी।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी। यहां देर रात झुग्गी झोपड़ियां में लगी भीषण आग, देखें रिपोर्ट

नंदन ही गीता की तलाश में गया था अल्मोड़ा
गोविंद और गीता के सौतेले पिता जोगा सिंह ने एक सितंबर को जगदीश का अपहरण किया। गीता की तलाश में उसके पिता अल्मोड़ा नहीं आए थे। बल्कि मां भावना, भाई गोविंद और उनके साथ नंदन ओमनी वैन संख्या यूके 19 टीए 0389 में धारानौला आए। इस दौरान जोगा और नरेंद्र ने जगदीश को बंधक बनाकर सैलापाली पुल के पास रखा था। गीता के अल्मोड़ा नहीं मिलने पर उन्होंने जगदीश की हत्या कर दी। शव को ओमनी वैन के माध्यम से ठिकाने लगाने ले जाते समय गीता के स्वजन गोविंद, जोगा और भावना को पुलिस टीम ने रंगे हाथों पकड़कर शव बरामद किया था। गहन जांच के दौरान पुलिस को हत्याकांड में नंदन और नरेंद्र के शामिल होने के सुराम मिले। नंदन सिंह की घटना के अगले दिन अज्ञात कारणों से मौत हो गई थी। इधर शुक्रवार को पुलिस ने नरेंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें 👉  दुस्साहस। मालकिन ने कराया नौकरानी का गैंगरेप, किसी को ना बता दे तो काट दी जुबान, फिर घटना में आया ऐसा मोड़ कि......

नंदन की संदिग्ध मौत के साथ ही दब गए कई राज
घोड़ों का कार्य करने वाला नंदन सिंह गीता के सौतेले भाई गोविंद सिंह का मित्र था। इन्होंने दिल्ली में भी साथ कार्य किया था। दोस्ती निभाते-निभाते नंदन ने अपराध को अंजाम देे दिया। हत्याकांड के अगले दिन ही नंदन की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। हालांकि उसके आत्महत्या करने की आशंका जताई जा रही है, लेकिन बगैर पोस्टमार्टम के शव दाह होने से उसकी मौत के कारणों की भी पुष्टि नहीं हो सकी है। वहीं जगदीश हत्याकांड में नंदन की मौत से कई राज गोपनीय रह गए।

यह भी पढ़ें 👉  लोकसभा चुनाव अपडेट। देखें:- नैनीताल जनपद में कितना हुआ मतदान और किस विधानसभा में कितने प्रतिशत पड़े वोट, फाइनल रिपोर्ट

जगदीश ने अपने घरवालों को नहीं दी थी शादी करने की जानकारी
अंतरजातीय विवाह करने के बाद जगदीश ने अपने घर में भी इस राज को नहीं बताया था। जगदीश के स्वजनों से पुलिस ने पूछताछ की। इस दौरान उसकी मां, बहन और दो भाईयों को भी उसके विवाह करने की जानकारी नहीं थी। हत्याकांड के बाद स्वजनों को पूरे मामले की जानकारी मिली।

गिरफ्तारी टीम में यह रहे शामिल
गिरफ्तारी टीम में विवेचनाधिकारी रानीखेत सीओ तिलक राम वर्मा, भतरौंजखान थानाध्यक्ष संजय पाठक, भिकियासैंण चौकी प्रभारी मदन मोहन जोशी, कांस्टेबल शमीम अहमद, एसओजी प्रभारी सुनील धानिक, एएनटीएफ प्रभारी सौरभ भारती, कांस्टेबल बलवंत प्रसाद, इंद्र कुमार आदि रहे।

स्रोत:- इंटरनेट मीडिया

Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखंड

Trending News

Follow Facebook Page

About

अगर नहीं सुन रहा है कोई आपकी बात, तो हम बनेंगे आपकी आवाज, UK LIVE 24 के साथ, अपने क्षेत्र की जनहित से जुड़ी प्रमुख मुद्दों की खबरें प्रकाशित करने के लिए संपर्क करें।

Author (संपादक)

Editor – Shailendra Kumar Singh
Address: Lalkuan, Nainital, Uttarakhand
Email – [email protected]
Mob – +91 96274 58823