हल्द्वानी। हाईकोर्ट को नैनीताल से हल्द्वानी शिफ्ट करने पर क्या बोले अधिवक्ता जितेंद्र सिंह बिष्ट? देखें खास रिपोर्ट: –

ख़बर शेयर करें

लालकुआं/हल्द्वानी
रिपोर्ट:- शैलेन्द्र कुमार सिंह

हाईकोर्ट को नैनीताल से हल्द्वानी स्थानांतरण की धामी सरकार की कैबिनेट द्वारा मोहर लगाए जाने के बाद हल्द्वानी कोर्ट के अधिवक्ताओं में भी खुशी का माहौल है। यहां अधिवक्ताओं का कहना है कि इससे वादकारियों को फायदा होगा और महंगाई का बोझ भी कम पड़ेगा। पूरे मामले पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए बिंदुखत्ता निवासी अधिवक्ता एवं कांग्रेस विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव जितेंद्र सिंह बिष्ट ने धामी सरकार की कैबिनेट के इस फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि वर्तमान में हाईकोर्ट नैनीताल में होने की वजह से वादकारियों सहित वकीलों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। क्योंकि नैनीताल में पार्किंग की समस्या के अलावा पीक सीजन में रहने की समस्या भी बनी रहती थी।

यह भी पढ़ें 👉  (उत्तराखंड) यहां होगा अगला विधानसभा सत्र, संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद्र अग्रवाल ने किया ऐलान......
जितेन्द्र सिंह बिष्ट, अधिवक्ता एवं प्रदेश सचिव, कांग्रेस विधि प्रकोष्ठ, उत्तराखंड

नैनीताल हाईकोर्ट हल्द्वानी शिफ्ट होने पर इससे वादकारियों को सस्ता और सुलभ न्याय मिल सकेगा। हल्द्वानी की बात करें तो यहां काठगोदाम तक रेल लाइन है साथ ही हल्द्वानी सभी क्षेत्रों से जुड़ा हुआ है और पंतनगर एयरपोर्ट भी नजदीक है जिससे कि वादकारियों को आवागमन करने में लाभ होगा। इतना ही नहीं यहां सस्ते दामों पर कमरे भी मिल जाते हैं जिसका सीधा फायदा भी वादकारियों को होगा। उन्होंने बताया कि भौगोलिक दृष्टि से नैनीताल के बजाय हल्द्वानी में हाईकोर्ट शिफ्ट करना सरकार के फैसले को सही दर्शाता है। उन्होंने सिर्फ हाईकोर्ट स्थानांतरण के मामले पर सहमति जताते हुए सरकार के फैसले का स्वागत किया है। हाईकोर्ट को नैनीताल से हल्द्वानी शिफ्ट करने पर सरकार के फैसले का स्वागत करने वालों में अधिवक्ता एवं पूर्व प्रदेश सचिव जनसमस्या निवारण प्रकोष्ठ कांग्रेस हिमानी सनवाल, अधिवक्ता बिजय प्रताप पांडे, गजेन्द्र गौनिया, अधिवक्ता विनय जोशी, अधिवक्ता अभिनव छिमवाल, अधिवक्ता फरीन, अधिवक्ता महावीर बिष्ट, अधिवक्ता एवं प्रदेश प्रवक्ता, कांग्रेस विधि प्रकोष्ठ गोपाल दत्त जोशी शामिल रहे। वहीं हल्द्वानी बार एसोसिएशन द्वारा भी हाईकोर्ट स्थानान्तरण के फैसले का स्वागत किया गया है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments