(उत्तराखंड) यहां होगा अगला विधानसभा सत्र, संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद्र अग्रवाल ने किया ऐलान……

ख़बर शेयर करें

विधानसभा का अगला सत्र ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण के भराड़ीसैंण स्थित विधानसभा भवन में आयोजित होगा।

बुधवार को सरकार की ओर से संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि सरकार गैरसैंण और भराड़ीसैंण के विकास के लिए गंभीर व वचनबद्ध है। बुधवार को कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह ने सदन में ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण का विषय उठाया।

उन्होंने कहा कि राज्य गठन के बाद सभी का सपना था कि राजधानी गैरसैंण हो, मगर राज्य को अस्थायी राजधानी देहरादून का तोहफा मिला। गैरसैंण में कांग्रेस सरकार के समय में पहली बार कैबिनेट हुई।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी/लालकुआं। वन विभाग एवं ओरिएंटल ट्रैल्स संस्था के संयुक्त प्रयास से स्थानीय एवं प्रवासी पक्षियों की गणना का कार्यक्रम हुआ संपन्न, ईकोटूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा:- संदीप कुमार, डीएफओ

टैंट में पहला सत्र कराकर इस दिशा में कदम बढ़ाए गए। मार्च 2020 में गैरसैंण में हुए सत्र में तत्कालीन मुख्यमंत्री ने गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा की। इसके बाद एक दिन भी सरकार ने इसका संज्ञान नहीं लिया।

सदन में घोषणा की कि आगामी सत्र गैरसैंण में होगा

यह जरूर हुआ कि यहां 15 अगस्त और 26 जनवरी को केवल ध्वजारोहण कार्यक्रम आयोजित कर इतिश्री कर ली जाती है। इस बार यहां बजट सत्र आयोजित कराने की बात कही गई थी, लेकिन चारधाम यात्रा का हवाला देते हुए सत्र नहीं कराया गया। चारधाम यात्रा हर वर्ष चलेगी, ऐसे में क्या यहां ग्रीष्मकाल में सत्र आहूत नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड):-इस जिले के SSP ने दरोगाओं के किए तबादल

नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि तत्कालीन मुख्यमंत्री ने ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा करते हुए यहां के लिए 2500 करोड़ रुपये की घोषणा की थी। सरकार यह भी बताए कि क्या इस राशि का प्रविधान इस बजट में किया गया या नहीं।

सरकार की ओर से इसका जवाब देते हुए संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि आंदोलनकारियों की भावना थी कि ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण हो। यही कारण रहा कि पहली बार गैरसैंण के भराड़ीसैंण स्थित विधानसभा भवन में 15 अगस्त 2017 को ध्वज फहराया गया।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड):-इस जिले के SSP ने दरोगाओं के किए तबादल

तब से लेकर भराड़ीसैंण में 26 जनवरी, राज्य स्थापना दिवस और 15 अगस्त का पर्व मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार गैरसैंण के विकास के प्रति गंभीर है। उन्होंने सदन में घोषणा की कि आगामी सत्र गैरसैंण में होगा।

स्रोत इंटरनेट मीडिया

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments